• Brahma Kumaris

ब्रह्मा बाप समान, एक कविता (Hindi Poem)


Becoming equal to Brahma baba (a Hindi poem for special January Purusharth)

अव्यक्त मास दिनांक 1.1.2019 से 31.1.2019 तक की मुरलियों में ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए प्राप्त विशेष पुरुषार्थ की पॉइंट्स को आधार बनाकर यह कविता बनाई गई है।

Visit Special Hindi Poems to read more poems. And visit Brahma baba biography to know more about Prajapita Brahma (ancestor of all human beings)

Brahma baba

Poem begins from below verse. To download/print this poem, visit the PDF version.

*** Poem ***

अन्तर्मुखी अव्यक्त और अलौकिक बन जाओ

अव्यक्त फरिश्ते स्वरूप में नजर सबको आओ

अलौकिकपन में कभी लौकिकपन ना मिलाना

अलौकिक और अन्तर्मुखी नजर सबको आना

औरों के दिल का राज अन्तर्मुखता द्वारा जानो

इसी विधि द्वारा औरों के मन के भाव पहचानो

साधारणता में असाधारण का अनुभव कराओ

बाहरमुखता में आते अन्तर्मुखता भी अपनाओ

बाहरमुखता के कारण ना आए कोई व्यवधान

कर्म व्यवहार में आते हुए रखना इसका ध्यान

बाप समान तुम अपनी रूहानी स्थिति बनाओ

दिव्य गुणों का एसेंस अपने अन्दर भरते जाओ

कर्म सभी करना सदा तुम होकर तन से न्यारा

यही अलौकिकपन तुम्हें बनाएगा सबका प्यारा

सितारों के संगठन में विशेष सितारा कहलाओ

अपने जीवन को बाप जैसा अलौकिक बनाओ

नैनों से तुम बाप समान रूहानियत झलकाओ

चलन से बाप के चरित्र का साक्षात्कार कराओ

अपने मस्तक से सदा मस्तकमणी नजर आओ

अपनी अलौकिक अवस्था प्रत्यक्ष करते जाओ

कर्म करते बन जाओ फरिश्ता और निराकारी

बाप समान करो ये एक्सरसाइज मन की सारी

जितना खुद को तुम बोझ मुक्त बनाते जाओगे

बाप समान फरिश्ता सबको नजर तुम आओगे

चलते फिरते देहभान रहित का अनुभव पाओ

देहभान से न्यारा अपना प्रकाश रूप दिखाओ

देह से न्यारी स्वयं की फरिश्ता स्थिति बनाओ

ब्रह्मा बाप का ये अभ्यास फॉलो करते जाओ

परमधाम जाने के लिए अव्यक्त रूप अपनाओ

मन की एकाग्रता पर विशेष ध्यान देते जाओ

वृत्ति दृष्टि कर्म में न्यारेपन का अनुभव कराओ

दिव्य फरिश्ता स्वरूप में नजर सबको आओ

अपना फरिश्ता रूप का अनुभव सदा बढ़ाओ

अशरीरीपन का अभ्यास बार बार करते जाओ

एक सेकण्ड में सारे व्यर्थ संकल्पों को मिटाओ

सारे संस्कार स्वभाव को डबल लाइट बनाओ

सर्व प्रकार के मेरेपन को एक बाप में समाओ

एक बाप में मन को लगाकर एकाग्रता बढ़ाओ

जहां चाहो जैसा चाहो उतना मन को टिकाओ

Brahma baba angel

एकरस फरिश्ता रूप का अनुभव करते जाओ

फरिश्ता बनकर ब्रह्मा बाप से प्यार निभाओ

अपने भविष्य स्वरूप का साक्षात्कार कराओ

जब अपना फरिश्ता रूप नजर सबको आए

समझो हम सम्पूर्णता के पास आए कि आए

अपना अलौकिक जीवन बन्धनमुक्त बनाओ

अधीनता से मुक्त होकर स्वतन्त्रता को पाओ

अपने आपको न्यारा और प्यारा बनाते जाओ

अपने शरीर और कर्मों की अधीनता मिटाओ

बीजरूप स्टेज का करना पावरफुल अभ्यास

सारे संसार को देना सर्व शक्तियों की सकाश

बीजरूप अवस्था से माइट हाउस बनते जाओ

सम्पूर्ण कल्प वृक्ष में सर्वशक्तियों को फैलाओ

ब्रह्मा बाप समान तुम प्रभु प्यार में खो जाओ

प्रभु स्नेह भरे शब्द बोलकर जादू मंत्र चलाओ

संकल्प बोल और कर्म में रखना बाप को संग

स्नेह में सबको बांधकर लगाओ प्यार का रंग

सब बातों के विस्तार को बिंदी सार में समाओ

समय और मेहनत बचाकर बिंदी में खो जाओ

जब तुम परमात्म प्यार में लवलीन हो जाओगे

प्रेम स्वरूप मास्टर प्यार के सागर बन जाओगे

ज्ञान सूर्य की किरणों से जिन्दगी जगमगाएगी

हर पल मन में प्यार की लहरें उछलती जाएगी

पुरुषार्थ के लिए किसी को आधार ना बनाओ

देह की स्मृति भूलकर बाप शमा में खो जाओ

अपना रूप तुम इस कदर बाप समान बनाओ

सबको बाप समान लाइट माइट नजर आओ

प्रभु प्रेम को अपने जीवन का आधार बनाओ

इसी प्यार से ब्राह्मण जीवन को आगे बढ़ाओ

प्रभु प्यार की सम्पत्ति पर बच्चों का अधिकार

ब्रह्मा बाप समान इसको बनाओ अपना संसार

कर्म वाणी सम्पर्क संबंध में रखना सबसे प्यार

लेकिन अपनी स्मृति में केवल बाबा हो संसार