'ड्रामा' - विश्व नाटक चक्र की समज

Vishwa Natak Chakra

Book Description

5000 साल और 4 युग का अनादि विश्व नाटक चक्र, जो यह जीवन का सुंदर खेल है- इसका अमूल्य ज्ञान हमे स्वयं निराकार परमपिता परमात्मा ने माध्यम प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा दिया है। इस किताब में आपको विश्व नाटक के चक्र को, ४ युग (सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, और कलयुग) को विस्तार से समझाया है। साथ में श्रेष्ठ युग (संगम युग) की विशेषता का वर्णन किया है। इसी समय (संगम युग) हम आत्माए अपने रूहानी बाप (शिव बाबा) से मिलान करते है, उनसे योग लगाते है, पवित्र बनकर अपना सुख शक्ति प्रेम का वर्षा लेते है।
Note: इस किताब में ज्यादातर पॉइंट्स साकार और अव्यक्त वाणियों से लिए गए है।

Book on World Drama Cycle of 5000 years and four ages (Satyug, Treta Yug, Dwapar Yug, Kaliyug - aka, Golden age, Silver age, Copper age, Iron age) - and Introduction and explanation of the 5th age - conflence age (Sangam yug) in which God himself appears in world drama to re-establish the new world (Satyug).

This book will broadcast the Godly message to humanity. Not only the knowledge, but the joy of that knowledge of truth is also achieved. God has arrived and is playing his incognito part in estalishment of golden age (heaven) through many mediums and the nature. Come, understand, and bring the change in your life.

Book is published by Prajapita Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidhyalay.

Book Author:

SpARC wing, Brahma Kumaris Godly Spiritual University, Mount Abu.

Tags to relate to this book:

world drama, rajyoga course, history

Also See➤

Please SHARE this eBook/page.

light background -resources.jpg

Read - Understand - Become