हिन्दी कविताएँ - परमात्मा की पालना

Kavitaye Poems in Hindi

Book Description

परमपिता (शिव बाबा) से प्रेरित मिली यह विशेष कविताएँ है, जिन्हे वर्ग अनुसार इस E-पुस्तक में रखा गया है। यह कविताएँ मुरली के ज्ञान से और अमृतवेला समय के योग से प्रेरित लिखी गयी है। लेखक: ब्रह्माकुमार मुकेश (राजस्थान)

These poems are written upon inspirations by Shiv Baba during Amritvela time Yog, and also inspired by gyan murlis that we study every day... These special poems will bring a pure joy of wisdom of Gyan Murli, explain Baba's Shrimat accurately, and will make your Purusharth feel easy and natural.

इस 52 पन्नो के PDF को आप प्रिंट कर सकते है, और जब भी समय मिले तो कविता पढ़े और अपने पुरुषार्थ में उन्नति लाये, और संगम युगी जीवन को सफल करे।
(Print the PDF of 50 pages and read whenever get time, to upgrade your Purusharth)

Book Author:

BK Mukesh bhai, Rajasthan, India.

Tags to relate to this book:

Hindi, poems, sustenance, Purusharth

Also See➤

Please SHARE this eBook/page.

light background -resources.jpg

Read - Understand - Become